in

मेरे क्रॉस ड्रेसर नौकरानी की चुदाई की कहानी

कैसे हैं आप सब लोग, उम्मीद है इस लोक डाउन में सभी लोग मजे में होंगे। 

जैसा कि आप सब को ध्यान है मैं एक मास्टर हूं और मैं कौन लड़के लड़कियों को अपना गुलाम बनाता हूं जिनको मेरी गुलामी करना पसंद है। 

सुनने में हो सकता है आपको ऐसा लगे कि ऐसे लड़के लड़कियां कहां मिलते हैं लेकिन यकीन मानिए पूरी दुनिया में ऐसे लड़के लड़कियों की कमी नहीं है जो आपका गुलाम बनने को तैयार होते हैं और मेरे पास तो ऐसे लड़के लड़कियों की कोई कमी है ही नहीं। 

जो लड़के का लड़की गुलामी करना पसंद करते हैं वह किसी खास मास्टर या मिस्ट्रेस की गुलामी पसंद करते हैं। 

तो मैं आज आप लोगों के बीच एक ऐसी कहानी बताने जा रहा हूं या मेरे साथ तब हुई जब मैं दिल्ली में नौकरी करता था। दरअसल में दिल्ली पढ़ाई के तुरंत बाद ही चला गया और मैं वहां पर एक मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी कर रहा था। तो जैसा मैंने आपको पहले बताया कि मैं कई वर्षों से लोगों को अपना गुलाम बनाने में दिलचस्पी रखता हूं और ऐसे कई गुलाम मेरे साथ रहे हैं जिनको लड़कियों के कपड़े पहनना पसंद है और वह सिर्फ लड़कियों के कपड़े ही नहीं पहनते बल्कि पूरा लड़की बनकर रहना भी चाहते हैं। सही समझे आप उनको ब्रा पेंटी फ्रॉक लिपस्टिक आई लाइनर ऐसा चीज पसंद होती है और अपने शरीर को चिकना करना चाहते हैं जैसे वह सच की लड़की है और उनके शरीर पर कोई बाल नहीं है। ऐसे लड़के लड़कियों को हम क्रॉसड्रेसर कहते हैं और पूरी दुनिया में हर कहीं मिलते हैं। 

दरअसल पूरे विश्व में आजकल वह मर्दाना लड़के बहुत कम हो गए हैं जिनमें मर्दानगी ज्यादा होती है, बल्कि आजकल तो ऐसे चिकने और कमजोर लड़के मिलते हैं जिन्हें लड़की बनकर गांड मरवाने में ज्यादा मजा आता है। जैसा मैंने आपको पहले बताया कि मैं दिल्ली में अकेला था और कई वर्षों से इस तरह के लड़के और लड़कियों के संपर्क में था जिनका मुख्य उद्देश्य दूसरों का गुलाम बनकर की जिंदगी जीना थ। तो जब ऐसे लड़कों के में संपर्क में आया तुम मुझे एक crossdresser मिला इंटरनेट के जरिए, जो कि पढ़ाई के सिलसिले में दिल्ली रहता था।

मेरी उससे दोस्ती इंटरनेट के जरिए हुई और वह मुझे कुछ ज्यादा ही दिलचस्पी रखता था जैसा कि मेरा शरीर था वह किसी भी लड़की को दीवाना बनाने के लिए काफी था और यह लड़का भी अंदर से लड़की ही थी। बातों का दौर शुरू हुआ तेरे बारे में इस लड़के ने मुझे बताया जिसके असली नाम को मैं आपको नहीं बताऊंगा लेकिन बाद में यही पायल बनके डेढ़ साल तक मेरे साथ दिल्ली में मेरी नौकरानी बनके रही। तो जब हमारी बातों का सिलसिला शुरू हुआ और इसने बताया कि यह क्रॉसड्रेसर है और इसको लड़की बनकर मर्दो के साथ हमबिस्तर होने में मजा आता है तो मुझे कुछ ज्यादा अचंभा नहीं हुआ क्योंकि बड़े शहरों में यह बहुत साधारण चीज है। लेकिन ना ऐसा धमकी दी थी कि एक तो बाहर बिस्तर पर मेरी रंडी बनने के बाद, यह पायल मेरी तरफ कुछ ज्यादा ही आकर्षित हो गई थी। साधारण क्या है मैं समझ जाता हूं विश्वास करता नहीं हूं और पायल को लेकर भी मैं ज्यादा चिंतित नहीं था लेकिन यह बार-बार मुझसे मिलने की जिद करने लगी और मेरी स्लेव बनने के लिए कुछ ज्यादा ही उत्साहित रहने लगी।

एक दिन पायल जब मेरी नौकरानी बनकर मेरी सेवा कर रही थी, मेरा लंड उसके मुंह में  था और वह एक गजब की लंड चूसने वाली लड़की थी, मुझे उसके मुंह में लंड देने में कुछ ज्यादा ही मजा आता था और ऐसा मजा मुझे और कोई नहीं दे पाया था। मेरा लंड चूसते चूसते उसने अचानक से मुझे कहा मैं आपकी परमानेंट नौकरानी बनना चाहती हूं। 

मेरे लिए यह अचंभे की बात थी क्यूंकि जब कोई क्रॉसड्रेसर रंडी बनकर गांड मरवाना चाहता है, तो गांड मरवाने के बाद अपना बोरिया बिस्तर समेट कर घर से चुपचाप बाहर चला जाता है लेकिन पायल मेरे घर में मेरी नौकरानी बनना चाहती थी। अलंकी मुझे यह सब पसंद नहीं था लेकिन सच में उसके लंड चूसने की कला ने मुझे उसकी और थोड़ा आकर्षित किया था। 

तो हुआ यह कि जैसा मैंने आपको बताया पायल पढ़ाई के सिलसिले में दिल्ली रहती थी और मेरी परमानेंट सेवा करना चाहती थी, क्योंकि उसके घर में कोई नहीं था जो उसे रोके और मैं भी अकेला रहता था तो मैंने इसे ट्राई करने का सोच।

हम दोनों में में डिसाइड हुआ कि मेरी नौकरानी बनके रहेगी, मेरे घर में बर्तन झाड़ू पोंछा, खाना बनाने से लेकर मेरे कपड़े धोने तक का सारा काम करेगी और बदले में मैं उसे तनखा दूंगा और मेरी सेवा करने का मौका दूंगा। बदले में मैंने उसे थोड़ा रुपया हर महीने देने का भी सोच लिया था। सबसे कमाल की बात वह एक बहुत पैसे वाले खानदान से थी जिसके घर में नौकर चाकर पहले से थे और एक ऐसा लड़का क्रॉसड्रेसर रंडी बनके मेरी नौकरानी बनके रहना चाहती थी, मेरी मर्दानगी के लिए बहुत वजनदार बात । पायल अगले दिन अपना सारा सामान लेकर मेरी नौकरानी बनने के लिए मेरे flat पर आ गई। हमारी डील यह थी कि जब भी वह घर में रहेगी तो लड़की बनकर रहेगी रात को वह मेरी रंडी बनके या नहीं सिर्फ ब्रा और पेंटी में रहेगी और उसके शरीर पर किसी भी समय एक भी बाल नहीं होना चाहिए। बदले में मैं उसे सेक्स देता और थोड़ा रुपया। 

तो पहली रात उसने अपना सारा शरीर मखमल की तरह साफ किया और एक दुल्हन की तरह सज कर मेरे बिस्तर पर बैठ गई।  

मैंने उसे कहा पायल मेरी नौकरानी को मेरे बिस्तर पर दुल्हन की तरह सच कर बैठने का कोई अधिकार नहीं है जिसके जवाब में पायल ने कहा खाली आज रात मुझे अपनी पत्नी बनाकर मुझे सुख दे दो उसके बाद में जिंदगी भर आपके कदमों की नौकरानी बन कर रहूंगी।

मैंने उसे पूछा क्या चाहिए तुम्हें तो उसने कहा मुझे पत्नी होने का एहसास करवा दो आज रात। 

इसका मतलब मैं जानता था इसका मतलब वह भी जानती थी और पूरी रात उसने मुझे तरह-तरह से शारीरिक सुख प्रदान किया। जैसा कि तय हुआ था सुबह मेरे उठने से पहले उसे रोकना था सारे बर्तन मांजने , पूरे घर की सफाई करनी थी और मेरे लिए खाना बनाना था। मेरे खाने के बाद उसे खाना था मुझसे पहले नहीं।

वह अगले दिन सुबह उठी उसने पूरा घर साफ सफाई किया और मेरे लिए खाना बनाया। क्योंकि वह भी पढ़ाई कर रही थी इसलिए उसे भी जाना था और मैं भी नौकरी कर रहा था उसने मुझे भी जाना था लेकिन पहले मुझे जाना था और बाद में उसे और उसको मुझसे पहले आना था। ऐसे ही चलता रहा वह मेरी नौकरानी बनकर रहने लगी और जब जब वह घर में रहती हमेशा और सेक्सी कपड़े पहन के आती। 

जब जब मैं ऑफिस से आता था तुम मुझे दरवाजे पर एक स्माइल के साथ मिलती थी और आते ही मेरे पैरों को चाट की थी। 

कई कई बार वह जब किचन में खाना बना रही होती थी तुम उसे वही पटक के उसके मुंह में अपना लंड देने के बाद उसके गांड मारता था। मैं बहुत मजे से एक रंडी की तरह मजे ले ले कर चुदवाती थी।  इस चोदम पट्टी का नतीजा यह निकला कि मुझे उस कुत्तिया को चोदने की आदत पड़ गई। घर साफ सतरा मिलता था खाना टाइम पर मिल रहा था बहुत टेस्टी मिल रहा था, आप चोदने को एक सेक्सी रंडी। इसके अलावा एक मर्द को क्या चाहिए। और तो और गांड मरवाने में नाटक भी नहीं करती थी। 

इसइस मेरी नौकरानी ने एक बार भी मुझसे शिकायत नहीं की और चुपचाप मेरी नौकरानी बनकर मेरी हर सेवा पूरी करते रहे। इतने आज्ञाकारी कुत्तिया आसानी से नहीं मिलती।  

शराब के नशे में इस बहन की लोहड़ी कुत्तिया ने कई बार मेरे लिए मादक अंदाज में डांस किया और मुझे हर वह सुख दिया जो एक लड़की दे सकती हो। इसने मुझे कई बार यह भी दरख्वास्त की कि अगर मैं अपने किसी पुरुष मित्र को लाकर ग्रुप में इसकी गांड मारना चाहूं तो इसे बहुत अच्छा लगेगा। 

लेकिन मैं इस कुत्तिया को खोना नहीं चाहता था और मैं नहीं चाहता था किस रसीली कुत्तिया की रसीली गांड का सुख कोई और ले। 

एक बात जो मुझे इस सेक्स क्रॉस केसर की बहुत अच्छी लगती थी वही थी कि ये लंड बहुत सुंदर चुस्ती थी।

मैंने जितनी बार इसे लंड चुसाया उसके बाद मुझे एक राहत की सांस महसूस हो और मैं बिल्कुल हल्के पन को महसूस करता थ। कुत्तिया दिन पर दिन मेरे दिलो-दिमाग पर छा जा रही थी। 

हालांकि जब हम लोग अपनी बिल्डिंग से बाहर निकलते थे यह नॉर्मल लड़के के कपड़े ही पहनती थी लेकिन फ्लैट के अंदर घुसते ही इसके अंदर मस्त औरत की जवानी छा जाती थी। इसका शरीर भी एकदम चिकना एकदम मस्त माल था। 

 दिन बीतते गए और करीब-करीब हफ्ते में चार पांच पर मैच की गांड मार कर अपनी शारीरिक इच्छाओं को पूरी कर रहा था। 

यह हर शख्स के बाद मेरी तरफ और आकर्षित हो जाती थी। अब सीधे साधे सेक्स में बीडीएसएम वाले मारपीट और दर्द भरे सेक्स की जगह ले ली थी। 

जब यह मेरा लंड चूस रही होती थी उसकी गाल पर थप्पड़ों की बरसात करता था……

बाकी कहानी अगले भाग में!

What do you think?

मेरी क्रॉसड्रेसर नौकरानी की चुदाई भाग 2

Sissy goals during lockdown